प्राथमिकता क्षेत्र की योजनाएं

1.

पी एण्ड एस बी की किसान क्रेडिट कार्ड  योजना

2.

पी एण्ड एस बी की ट्रैक्टर वित्तपोषण योजना

3.

पी एण्ड एस बी की पुराने ट्रैक्टरों की वित्तपोषण योजना

4.

पी एण्ड एस बी की फसल काटने की मशीन (हार्वेस्टरकंबाईन) हेतु वित्तपोषण योजना

5.

पी एण्ड एस बी की ट्रैक्टर वित्तपोषण की नई योजना

6.

पी एण्ड एस बी की किसानों को कृषि कार्यों हेतु भूमिखरीदने के लिए वित्तपोषण योजना

7.

पी एण्ड एस बी की किसानों को दो पहिया/जीप केवित्तपोषण के लिए योजना

8.

पी एण्ड एस बी की व्‍यावसायिक डायरी वित्तपोषण योजना

9

पी एंड एस बी एस्टेट खरीद ऋण

10

सोने और चांदी के एवज में कृषि प्रयोजनों के लिए पी एंड एस बी ऋण

11

पी एंड एस बी किसान सभी प्रयोजनों हेतु सावधि ऋण

12

पी एंड एस बी किसान तत्काल योजना

13

पी एंड एस बी की अक्षय ऊर्जा उपकरणों (सोलर पम्पसेटों/सोलर वॉटर हीटर/सोलर लाइटिंग) की खरीद के लिए किसानों को ऋण

14

पी एंड एस बी बीज उत्पादन एवं प्रसंस्करण इकाइयों के लिए वित्‍तपोषण योजना

15

पी एंड एस बी कृषि आदानों (फर्टिलाइजर्स/कीटनाशकों/प्रमाणित बीज आदि) के डीलरों/वितरकों/शेयर और बुक डेटस के एवज में स्टॉकिस्ट के वित्तपोषण के लिए  योजना

16

पी एंड एस बी की गोदाम रसीदों की गिरवी पर वित्तपोषण योजना

17

पी एंड एस बी की आढ़तियों(कमीशन एजेंटों) को वित्तपोषण की किसान राहत योजना



 

 

1. पी एण्ड एस बी की किसान क्रेडिट कार्ड योजना

किसान क्रेडिट कार्ड योजना का उद्देश्‍य बैंकि‍ग प्रणाली से एकल विंडो के माध्यम से किसानों कोउनकी खेती और अन्य जरूरतों के लिए पर्याप्त और समय पर ॠण उपलब्‍ध करवानाहै:

क. फसलों की खेती के लिए लघु अवधि की ऋण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए

ख. फसल कटौती के बाद के खर्च

ग. विपणन ऋण उत्‍पादन

घ. किसान की घरेलू खपत आवश्यकताएं

ड़. फसल संपत्ति और कृषि से संबद्ध गतिविधियों जैसे डायरी, पशुओं, देश के भीतरी भाग में मत्स्य पालन आदि के रखरखाव के लिए कार्यशीलपूंजी

च. कृषि और संबंधित गतिविधियों जैसे पम्पसेटों, स्प्रेयरों, डायरी पशुओं आदि के लिए निवेश ऋण आवश्यकताएं।  

 

सभी किसान - व्यक्तिगत/संयुक्त उधारकर्ता जो मालिक किसान हैं,किरायेदार किसान, मौखिक पट्टेदार और सांझा बटाईदार, स्वयं सहायता समूहों या किरायेदार किसानों सहित किसानों की संयुक्त देयता समूह, शेयर बटाईदार आदि केसीसी के लिए पात्र हैं।   

क्रेडिट सीमा परिचालन भूमि जोत, फसल पद्धति और सहायक और पूरे वर्ष के लिए किसान की आकस्मिक आवश्यकताओं के आधार पर तय की जा सकती है। ऐसे किसान जो एक वर्ष में एक से अधिक फसल उगाते हैं, की क्रेडिट सीमा प्रस्तावित फसल पद्धति के अनुसार खेती की फसलों के आधार पर तय की जाएगी।  उत्पादन ऋण सीमा तय करने के लिए मानदंड किसान के कृषि क्षेत्र की सीमा पर आधारित है। मूल्यांकक/ स्‍वीकृति प्राधिकारी सीमा निर्धारित करते समय पूरी सावधानी से कार्य करेंगे और वास्तविक सीमा और सिंचित और असिंचित भूमि के लिए अलग से गणना करके मामले के आधार पर तय की जाएगी।  किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत कोई अधिकतम ऋण सीमा नहीं है।  क्रेडिट सीमा का निर्धारण किसानों की सभी श्रेणियों के लिए समान है।  

 

2.पी एण्ड एस बी की ट्रेक्टर वित्त एवं ट्रेक्टरकल्याण निधि योजना

पंजाब एण्ड सिंध बैंक ने खेती के यंत्रीकरण हेतुट्रैक्टर ऋण के लिए अत्यंत उदार नीति अपनाई है।एक किसान जो न्यूनतम 8 एकड़ सिंचाईयुक्तकृषि भूमि पर कृषि कार्य कर रहा है और ट्रैक्टर का उपयोग अपने खेत पर या कस्टम भाड़े के लिएवर्ष में न्यूनतम 1000 उत्पादक घंटों का होना चाहिए।ऋण 9साल की अवधि तक में बराबर छमाही किश्तों में चुकाया जा सकता है। प्रस्‍तुत प्रतिभूति जैसे भूमि बंधन और ट्रैक्टर का दृष्टिबंधन स्‍वीकृत सावधि ऋण के दोहरे मूल्य का होना चाहिए।  

 

ट्रैक्टर का बीमा

 

व्यापक बीमा के बोझ से किसान को बचाने के लिए, पंजाब एंड सिंध बैंक ने व्यापक बीमा की शर्त माफ कर दी है। अब किसान बैंक की ट्रैक्टर कल्याण कोष की सदस्यता के लिए विकल्प चुन सकते हैं। ट्रैक्टर केवल तीसरी पार्टी के लिए ही बीमि‍त होगा। जो किसान ट्रैक्टर कल्याण निधि योजना को चुनते हैं को ट्रैक्टर कल्याण निधि में केवल रु.300/-प्रति वर्ष योगदान देना होगा।  गंभीर दुर्घटना के मामले में, जहां नुकसान की राशि 10,000रुपये से अधिक है तो ट्रैक्टर कल्याण कोष से मूल्यांकि‍त नुकसान के 50%की सीमा तक मुआवजा प्रदान कि‍या जाएगा। ट्रैक्टर कल्याण निधि योजना का सदस्य बनने से, किसान 9साल की अवधि में 15000से 20,000रुपये तक बचाता है।  ट्रैक्टर कल्याण निधि "कृषि एवं ग्रामीण रोजगार के विकास के लिए पीएसबी ट्रस्ट" नामक ट्रस्ट द्वारा बनाए रखा गया है।  ट्रैक्टर कल्याण कोष में एकत्र धनराशि  का कृषक समुदाय के लाभ के लिए उपयोग किया जाता है।   

 

3.पी एण्ड एस बी की पुराने ट्रैक्टरों की वित्तपोषण योजना

 

बैंक द्वारा पुराने ट्रैक्टरों को खरीदने हेतु बहुत आसान शर्तों  परऋण उपलब्ध कराया जाता है। यह ट्रैक्टर की पहली पुनः बिक्री होनी चाहिए और ट्रैक्टरवास्तव में अच्छी स्थिति में तथा 7 वर्ष से अधिक पुराना नही होना चाहिए। कोई भी किसान जो 4 एकड़ सिंचाईयुक्त भूमि कास्वामी हो और 6 एकड़ सिंचाईयुक्त भूमि पर खेतीबाड़ी करता हो , इस योजना के अंतर्गत पात्र है।

 

25%का मार्जिन बैंक के पक्ष में होना चाहिए और ऋण की चुकौती 5 वर्षों की अवधि हेतु समान अर्द्ध वार्षिककिश्तों में होनी चाहिए।प्रस्‍तुत प्रतिभूति जैसे भूमि बंधन और ट्रैक्टर का दृष्टिबंधन स्‍वीकृत सावधि ऋण के दोहरे मूल्य का होना चाहिए।

अनुमोदित मूल्यांकनकर्ता/डीलर एवं शाखाप्रबंधक द्वारा निर्धारित लागत जो कि अधिकतम रू.1.50 लाख के ऋण तक सीमित है।

 

4.पी एण्ड एस बी की फसल काटने की मशीन (हार्वेस्टरकंबाईन) हेतु वित्तपोषण योजना

 

किसान अपनी फसल को अपनी हार्वेस्टिंग कंबाईन मशीन के साथ जल्दी काट सकता है औरअन्य किसानों की समय के अंदर फसल काटने में सहायता कर सकता है। इस प्रकार, किसानहार्वेस्टिंग कंबाईन का वाणिज्यिक रूप से बहुत अच्छा उपयोग कर सकता है और अपनी आयको कई गुणा बढ़ा सकता है। मशीन का मूल्य रू.5.50 लाख से रू. 9.00 लाख तक हो सकताहै। किसानों को प्राकृतिक आपदाओं से बचाने के लिए, मशीन प्रसिद्ध हो रही है और अधिकसे अधिक किसानों द्वारा वाणिज्यिक आधार पर प्रयोग में लाई जा रही है। किसान को यह विश्‍वास दिलाना होगा कि उसको पर्याप्तकाम मिल जायेगा और पर्याप्त प्रतिभूति उपलब्ध करा सकेगा।25% मार्जिन अपेक्षित है।  ॠण की चुकौती 7 वर्षों की अवधि में समान अर्द्ध वार्षिककिश्तों में की जायेगी। भूमि के बंधीकरण द्वारा प्रस्तावितप्रतिभूति का मूल्य और हार्वेस्टर कंबाईन के दृष्टिबंधक को संस्वीकृत मियादी ऋण कीराशि का दोगुणा होना चाहिए।

केवल उन्‍हीं कंबाईनों हेतु वित्त प्रदान कियाजाएगा जो बुधनी और हिसार जांच केंद्रों पर जांची गई हों। बैंक की स्वीकृत सूची में कंबाईन का नाम होना चाहिए। वर्तमान में, निम्नहार्वेस्टर कंबाईनों को स्वीकृत किया गया है

 

5.पी एण्ड एस बी की ट्रैक्टर वित्तपोषण की नई योजना

ट्रैक्टर ऋण व्यवसाय के बाजार की गतिशीलता बदल रही है।  मौजूदा मानदंडों के अनुसार ट्रैक्टर की खरीद के ऋण के लिए पात्र होने के लिए आवश्यक न्यूनतम एकड़ और होल्डिंग कृषि भूमि की खंडित प्रकृति के कारण किसानों की एक बड़ी संख्या ट्रैक्टर वित्‍तपोषण के लिए पात्र नहीं है। अप्रयुक्त ट्रैक्टर व्यापार का पता लगाने और ट्रैक्टर ऋण के बैंक के पोर्टफोलियो का विस्तार करने के लिए ट्रैक्टर वित्तपोषण के लिए पी एण्ड एस बी की एकनई योजनाबनाई गई है जिसके तहत किसान जिनके पास बारहमासी 2एकड़ सिंचित भूमि हो, पात्र हैं और उधार मानदंडों जैसे पात्रता, मार्जिन, सुरक्षा, ब्याज की दर, चुकौती अवधि आदि में छूट प्रदान की गई है मासिक आधार पर चुकाने के प्रावधानों के साथ बशर्ते ट्रैक्टर डीलर/विक्रेता बिक्री कार्यकारी अधिकारियों को प्रोत्साहन प्रदान कर रहा है।

 

6.पी एण्ड एस बी की किसानों को कृषि कार्यों हेतु भूमिखरीदने के लिए वित्तपोषण योजना

लघु एवं सीमांत किसानों को जिसमें बटाई पर फसल उगाने वाले और किराए परकृषि कार्य करने वालों को कृषि भूमि को खरीदने और बंजर भूमि का विकास तथा कृषियोग्य बनाकर कृषि उपज एवं संबंधित गतिविधियां बढ़ाने हेतु मियादी वित्त उपलब्धकराने का इस योजना का लक्ष्य है। यह उन्हें वर्तमान गतिविधियों में विविधता लाने और संबंधित गतिविधियों को लेने के लिए भी सक्षम बनाता है।

लघु एवं सीमांत किसान, बटाई पर फसल उगाने वाले और किराए परकृषि कार्य करने वाले किसान उद्यम कृषि पृष्ठभूमि के साथ पात्र हैं (बशर्ते राज्य कानून गैर कृषकों द्वारा कृषि भूमि की खरीद की अनुमति दे) योजना के तहत भूमि की खरीद के बाद ऋण लेने वाले की कुल भूमि जोत सिंचित भूमि 2.5एकड़ या गैर सिंचित भूमि या समकक्ष की 5एकड़ जमीन होनी चाहिए। ऋण की मात्रा(i) शाखा द्वारा निर्धारित मूल्यांकन  (ii)  गाइडेंस मूल्य/ राज्य द्वारा बिक्री के लिए निर्धारित सर्किल दर या (iii) पंजीकरण मूल्य, जो भी कम हो ,स्टांप शुल्क सहित मूल्य, बिक्री/बंधक विलेख हेतु पंजीकरण शुल्क। अधिकतम राशि 10लाख रुपये।

 

9.पी एंड एस बी एस्टेट खरीद ऋण

पारंपरिक बागान फसलों अर्थात कॉफी, चाय, रबड़ और इलायची,काजू, काली मिर्च, नारियल और अन्य बारहमासी बागान फसलों की सम्पदा की खरीद करने के लिए।

(i)                   बेदखल सम्पदा और खरीदी जाने वाली संपत्ति को फिर से जीवंत करने की स्थिति में होना चाहिए का प्रस्ताव।

(ii)                 इच्छुक उधारकर्ता का बैंक से निपटने का संतोषजनक अतीत होना चाहिए।

(iii)                क्रेता को लाइन का अनुभव होना चाहिए, आर्थिक रूप से और ऋण का मार्जिन और सेवा करने की स्थिति में होना चाहिए।

(iv)               इच्छुक खरीददार कृषक/राज्य सरकार द्वारा निर्धारित आय मानदंडों को पूरा करने के साथ संबंधित राज्य सरकार के मानदंडों के योग्य होना चाहिए।

(v)                 संपत्ति अधिमानतः एक उपेक्षित होनी चाहिए।  संपत्ति अधिक पैदावार संभावित फार्म होना चाहिए। संपत्ति विकासात्मक गतिविधियों के लिए पर्याप्त क्रेडिट को अवशोषित करने की क्षमता वाली होनी चाहिए।

(vi)               भूमि सहित कुल भूमि जोत का अधिग्रहण किए जाने से संबंधित राज्य की भूमि हदबंदी मानदंडों के भीतर होना चाहिए। 

 

10.सोने और चांदी के एवज में कृषि प्रयोजनों के लिए पी एंड एस बी ऋण:

 

अपनी अल्पकालिक कृषि ऋण आवश्‍यकताओं और निवेश जरूरतों अर्थात दोनों फसल उत्पादन की जरूरतों  को तथा कृषि तथा संबद्ध गतिविधियों की निवेश जरूरतों को जल्दी से पूरा करने के लिए किसानों को सक्षम बनाना है।  

 

कृषि या संबंधित गतिविधियों में लगा किसी भी व्यक्ति के साथ ही भारत सरकार/भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा स्‍वीकृत गतिविधियों में लगे व्यक्तियों को कृषि के अंतर्गत वर्गीकृत किया जाता है। आवेदक को केवाईसी दिशा निर्देशों को पूरा करना चाहिए और ऋण घोषणा के आधार पर दिया जाएगा। इसके साथ ही, रू 1लाख से ऊपर के ऋण के लिए गतिविधि को संचालित करने का सबूत देना होगा।

 

ऋण का उद्देश्य, खेत गतिविधि से संबंधित एक/विभिन्न उद्देश्यों के खर्चे को पूरा करने सहित संबद्ध गतिविधियों के लिए भी होगा।  ऋण का मूल्यांकन फसल उत्पादन और अन्य प्रयोजनों के लिए किसानों द्वारा वास्तविक क्रेडिट आवश्यकता के आधार पर किया जाएगा।  यह किसानों के आवेदन में घोषणा के आधार पर किया जाएगा।  हालांकि, सीमा भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा निर्धारित में से निर्धारित मार्जिन घटाकर गिरवी स्वर्ण आभूषण/सोने के सिक्के आदि के मूल्य तक सीमित होगी।  चांदी के मामले में, चांदी के आभूषणों के अलावा अन्य प्रयोजनों से निपटने में कठिनाइयों को देखते हुए ऋण केवल चांदी के आभूषणों के एवज में विस्तारित किया जाएगा।  

 

 

11.पी एंड एस बी किसान सभी प्रयोजनों हेतु सावधि ऋण

 

सभी सावधि ऋण आवश्यकताओं के लिए जैसे खेत मशीनीकरण, भूमि विकास, लघु सिंचाई, जल संरक्षण, बागवानी, मित्र देशों की गतिविधियों और अन्य कृषि गतिविधियों आदि के लिए किसानों को परेशानी मुक्त एकल अवधि ऋण सीमा बनाए रखने के लिए।  

 

हालांकि, इस ऋण उत्पाद (उदाहरण के लिए आम बागान6-7साल की विशिष्ट अवधि की आवश्‍यकता) की विशिष्ट अवधि को ध्यान में रखते हुए लंबी अवधि (3-4वर्ष से अधिक) की विकास परियोजनाओं को ध्‍यान में नहीं रखा जाएगा।  

ऋण/सीमा की मात्रा:

 1किसान द्वारा दी गई निवेश योजना को अगले 2-3साल में क्रियान्वित किया जाएगा।

2योजना में कृषि और संबद्ध गतिविधियों से संबंधित निवेश/विकास गतिविधियों का एक संयोजन हो सकता है।

3यह किसान की संबंधित गतिविधियों सहित वार्षिक आय(वर्तमान-पूर्व विकास चरण) के 5गुणा के बराबर होगी या गिरवी भूमि के मूल्य का 50%जो भी कम है, अधिकतम 20लाख रु0 के आधार पर होगी। 

 

12.पी एंड एस बी किसान तत्काल योजना:

 

कृषि समुदाय के लिए कृषि और घरेलू प्रयोजनों के लिए आपातकालीन जरूरतों को पूरा करने के लिए अस्थायी कठिनाइयों से नि‍पटनेके लिए तत्‍काल ॠण। व्यक्तिगत किसान /संयुक्त उधारकर्ता(4किसानों से अधिक नहीं) जो, मौजूदा किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) धारक हों, योजना के तहत कम से कम दो वर्ष की संतोषजनक ट्रैक रिकार्ड वाले पात्र होंगे।

 

13.पी एंड एस बी की अक्षय ऊर्जा उपकरणों (सोलर पम्पसेटों/सोलर वॉटर हीटर/सोलर लाइटिंग) की खरीद के लिए किसानों को ऋण

 

इस योजना के अंतर्गत सोलर वाटर पम्पिंग प्रणाली की स्थापना के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा।  प्रस्तावित योजना के वाटर पंप से जल निकालने के लिए सौर ऊर्जा के दोहन में मदद करेगा।

 इस योजना के अंतर्गत पात्रता शर्त निम्‍नानुसार हैं:-

 

किसानों की जमीन के लिए पानी के पर्याप्त स्रोत होने चाहिए। यदि किसी मामले में सार्वजनिक/सरकारी स्रोत का इस्तेमाल किया जा रहा है, संबंधित अधिकारी से जल अधिकार प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया जाना चाहिए।  कुओं के मामले में, सिंचाई के अंतर्गत प्रस्तावित सिंचाई क्षेत्र के लिए, उनके पास पर्याप्त रिकूपिंग क्षमता होनी चाहिए।

   

उसके पास न्यूनतम10एकड़ आर्थिक जमीन का मालिकाना हक होना चाहिए। हालांकि, ऋण पर विचार किया जाएगा भले ही लाभ क्षेत्र 10एकड़ जमीन से कम है बशर्ते  किसान अधिशेष पानी बेचने के लिए सक्षम हो।  

यह भी संभव है कि सौलर पंपसैटकी तकनीकी सीमा के कारण कि यह केवल (उथले जल स्रोतों) लो हैडस पर और कम क्षमता (2.50एचपी पम्पसेटों) और इसलिए छोटे से क्षेत्र में सिंचाई की क्षमता की वजह से (1 -2हेक्टेयर) केवल छोटे डिस्‍चार्ज के लिए काम कर सकते हैं।  

 

ऐसे सभी मामलों में, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि व्यवहार्यता सुनिश्चित कर दी गई है और प्रायोजित डीएससीआर (DSCR)1.60से कम नहीं है

 

अप्रत्यक्ष कृषि अग्रिम की योजनाएं:-

 

14.पी एंड एस बी बीज उत्पादन एवं प्रसंस्करण इकाइयों के लिए वित्‍तपोषण योजना

 

कोई भी व्यक्ति, फर्म (स्वामित्व/भागीदारी), प्राइवेट लिमिटेड और लिमिटेड कंपनियों के स्वामित्व वाले/पट्टे पर जमीन (न्यूनतम एक एकड़ जमीन) वाले इस योजना का लाभ ले सकते हैं।  बैंक वित्त की अधिकतम मात्रा 2.00करोड़ (प्रति उधारकर्ता) तय है। इस योजना के अंतर्गत अवधि ऋण सहित कार्यशील पूंजी दोनों सुविधाएं उपलब्ध हैं।  वसूल किया जाने वाला ब्याज दर क्रेडिट रेटिंग 1से 4के लिए बीआर+1%होगा।  पट्टेदारी संपत्ति के मामले में, उधारकर्ता/जमानतदार के नाम पर अलग भूमि और भवन जो ऋण सीमा के न्यूनतम 100%से कम न हो, प्राप्त किया जा सकता है। 

 

15.पी एंड एस बी कृषि आदानों (फर्टिलाइजर्स/कीटनाशकों/प्रमाणित बीज आदि) के डीलरों/वितरकों/शेयर और बुक डेटस के एवज में स्टॉकिस्ट के वित्तपोषण के लिए योजना

 

कोई भी फर्म (स्वामित्व/भागीदारी), प्राइवेट लिमिटेड और लिमिटेड कंपनियां/ जेएलजी /एसएचजीजो कृषि आदानों जैसे उर्वरक, कीटनाशक, बीज, मवेशी फीड, पोल्ट्री फीड, कृषि औजार, फार्म मशीनरी आदि की बिक्री में शामिल हो, इस योजना के तहत संपत्ति/ नकद ऋण सुविधाओं के एवज़ में ओवरड्राफ्ट लाभ ले सकते हैं। ब्याज दर क्रेडिट रेटिंग 1से 4के लिए बीआर+1%होगा। क्रेडिट रेटिंग के बावजूद रू.5.00लाख से कम के एक्‍सपोजर के लिए ब्याज-दर बीआर+1%वसूल की जाएगी। उधारकर्ता द्वारा स्‍वीकृति के समय स्टॉक स्‍टेटमैंट/ बुक डेटस स्‍टेटमैंट प्रस्तुत की जाएगी और उसके बाद वार्षिक आधार पर स्टॉक जो छह महीने से अधिक पुराना नहीं हो।

 

कैश क्रेडिट सुविधा के मामले में, स्‍टॉक के रूप में मार्जिन 20%और बुक डेटस के एवज में 50%हो सकता है।  नए ऋण के ODP सुविधा के मामलों के लिए मार्जिन 35%लागू होगा और नवीकरण के लिए जहां संपत्ति का पुनर्मूल्यांकन उचित नहीं है, मार्जिन 25%अपेक्षित है।  नवीकरण के मामले में , जहां संपत्ति का पुनर्मूल्यांकन उचित है पुनर्मूल्यांकि‍तसंपत्ति का 35%मार्जिन लागू होगा।   

 

16.पी एंड एस बी की गोदाम रसीदों की गिरवी पर वित्तपोषण योजना

 

किसान, अनाज व्यापारी/कमीशन एजेंट/मिलर्स इस योजना के अंतर्गत वित्त के लिए पात्र हैं।  इस के अलावा, वे किसान, व्यापारी/मिलर्स, जो अपनी कृषि उपजराज्य सरकार /केन्द्रीय गोदामों यास्वामित्व ,पट्टे पर, NHBC / SAMC द्वारा फ्रैंचाइज गोदामों में स्‍टोर करते हैं, भी पात्र हैं।

 

योजना अखिल भारतीय स्तर पर लागू की जा रही है। मैसर्स नैशनल बल्‍क हैंडलिंग कोरपोरेशन (एनबीएचसी) और मैसर्स स्टार एग्रीवेयरहाउसिंग और कोलेटरल मैनेजमेंट लिमिटेड (SACM) द्वारा जारी गोदाम रसीदों के एवज़ में 9माह तक के अल्पावधि वित्त भी उपलब्ध है। कोलेटरल मैनेजमेंट के लिए सेवाएं और इन सेवाओं के लिए फीस और शुल्क इन कंपनियों के साथ समझौते के आधार पर उपलब्ध हैं।

 

17.पी एंड एस बी की आढ़तियों(कमीशन एजेंटों) को वित्तपोषण की किसान राहत योजना

 

बैंक आढ़तियों (कमीशन एजेंटों) को नकद ऋण सुविधाएं बहुत उदार शर्तों पर उपलब्ध कराता है। बैंक क्रेडिट सीमा की राशि के बावजूद (वर्तमान में अधिकतम रु01.00लाख) बेस रेट + 0.50%वार्षिक की दर से ब्याज वसूलेगा। बुक डेटस के रूप में मार्जिन मानदंड 50%है और संपत्ति/एफडीआर/एनएससी/एलआईसी पॉलिसी/कोई भी अन्य सरकारी प्रतिभूति के रूप में 25लाख रुपए तक की स्‍वीकृत क्रेडिट लिमिट के लिए कम से कम 100%संपाशर्विक प्रतिभूति और 25लाख रुपए से ऊपर की स्‍वीकृत क्रेडिट लिमिट के लिए 150%संपाशर्विक प्रतिभूति है।