नॉन फंड बेसड उत्पाद और सेवाएँ

निर्यात/आयात सेवा

अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग: अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग सेवा देश के निर्यात और आयात में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। समुचित निर्यात/आयात के लिए बैंक द्वारा निर्यातकों/आयातकों को प्रदान की जाने वाली विभिन्न सुविधाएं नीचे सूचीबद्ध है:

 

 

 निर्यात आयात

 

 निर्यात: बैंक द्वारा निर्यातकों को उपलब्ध कराई गई सुविधाओं में शामिल हैं:

1. प्री शिपमेंट वित्त: प्री-शिपमेंट वित्त को मोटे तौर पर पैकिंग क्रेडिट के रूप में भी जाना जाता है पैकिंग क्रेडिट, एक विदेशी खरीददार द्वारा जारी किए गए कंफर्म आदेश / लैटर आफ क्रेडिट के प्रस्‍तुत करने पर शिपमेंट से पहले माल की खरीद, प्रसंस्करण, निर्माण या पैकिंग के वित्तपोषण के लिए बैंक द्वारा निर्यातक को दिया जाने वाला एक प्रकार का एडवासं है। निर्यातक को पैकिंग क्रेडिट प्राप्त करने के लिए पात्र होने के लिए निम्नलिखित मुख्य मानदंड को पूरा करना होगा। पैकिंग क्रेडिट भारतीय रुपए/विदेशी मुद्रा में प्राप्‍त किया जा सकता है।

1. डीजीएफटी द्वारा आवंटित की गई आयातक-निर्यातक कोड (आईईसी) संख्या होनी चाहिए।

2. भारतीय रिजर्व बैंक की निर्यातकों की सतर्कता सूची में शामिल नहीं होना चाहिए।

3. एक निर्यात प्रतिबद्धता/आदेश होना चाहिए और उसे पूरा करने की उसमें क्षमता होनी चाहिए।

 

2. पोस्ट-शिपमेंट वित्त: बैंक द्वारा प्रदत पोस्ट-शिपमेंट वित्त में निम्नलिखित शामिल हैं:

1. भारतीय रुपए में निर्यात बिलों की खरीद/भुनाई/नैगोसिएशन

2. विदेशी मुद्रा में निर्यात बिलों की खरीद/भुनाई/नैगोसिएशन

3. वसूली हेतु भेजे गए निर्यात बिल के एवज़ में अग्रिम

 

3. गैर निधि आधारित वित्त: निर्यात से संबंधित निम्‍न उद्देश्यों के लिए भारतीय निर्यातकों की ओर से गारंटी जारी करने के लिए बैंक इस तरह की सेवाएं प्रदान करता है।

1. प्रफोरमेंस

2. बिड बांड

3. अग्रिम भुगतान

4. अन्य सेवाएं: निर्यातकों के लिए बढ़ाई गई अन्य सेवाएँ हैं:

1. निर्यात क्रेडिट पत्र की एडवाइजिंग/पुष्टि देना।

2. निर्यात बिलों का संग्रहण

3. निर्यात के लिए विदेशी मुद्रा खाते जैसे विदेशी मुद्रा अर्जक (ईईएफसी) खाते

4. अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और भुगतान से संबंधित प्रेषण की सुविधा।

 सभी सुविधाएं बैंक/आरबीआई / FEDAI  के दिशा निर्देशों के अंतर्गत प्रचलित नियमों के अधीन हैं।

आयात: बैंक द्वारा आयातकों को प्रदान की जा रही सुविधाओं में शामिल हैं:

 

1. आयात बिलों का संग्रहण/ भुगतान: अधिकृत शाखाओं के माध्यम से आयात बिल बहुत प्रतिस्पर्धात्मक दरों पर एकत्रि‍त किए जाते हैं। बैंक के प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय बैंकों के साथ कुशल सेवाएं प्रदान करने के लिए आयातकों के साथ अच्‍छे संबंध हैं।

 2. इम्‍पोर्ट एलसी की ओपनिंग/ इस्‍टेबलिशिंग (साइट / डीए): पंजाब एंड सिंध बैंक विदेशी विक्रेताओं से माल की खरीददारी के लिए एल / सी की सुविधा प्रदान करता है।

 3. आयातकों की ओर से गारंटी जारी करना : पंजाब एंड सिंध बैंक आयातकों की ओर से विदेशी लाभार्थियों के पक्ष में गारंटी जारी करता है।

4. विदेशी मुद्रा ऋण के माध्यम से आयात की फाइनेंसिंग।

बाहरी वाणिज्यिक ॠण(ईसीबी) और व्यापार क्रेडिट्स

 1. बाह्य वाणिज्यिक ॠण (ईसीबी): बैंक कॉर्पोरेट्स को उनके बाह्य वाणिज्यिक ॠणों में सोर्सिंग की सुविधा प्रदान करता है।

2. व्यापार क्रेडिट: बैंक आयातकों के लिए विदेशी बैंकों से भी प्रतिस्पर्धी दरों पर क्रेडिट व्यवस्था करता हैं।

 

सभी सुविधाएं बैंक/आरबीआई/FEDAI  के दिशा निर्देशों के प्रचलित नियमों के अधीन हैं।