वाहन ऋण योजना

 

उद्देश्‍य

नये एवं पुराने चार पहिया,दो पहिया वाहन खरीदने हेतु(पुराने वाहन 5 वर्ष से अधिक पुराने नहीं होने चाहिए।

(प्राइवेट वाहन अवाणिज्यिक और पंजीकृत होने चाहिए)     

पात्रता

व्‍यक्तिगत के साथ-साथ कारोबारी संस्‍थाएं(निगमित या अनिगमित)

आयु

18से 65साल ,भुगतान की आयु के आधार पर

 

 

 

 

 

 

ॠण की मात्रा

i)व्यक्तियों और स्वामित्व संबंधी प्रतिष्‍ठानों के लिए :
नए वाहन और पुराने वाहन: ऋण राशि की कोई अधिकतम सीमा नहीं है।
(पति-पत्‍नी/बड़ा बेटा/माता-पिता की आय को शामिल किया जायेगा बशर्ते कि ॠण में वे सहउधारकर्ता या गारंटर हो। )

ii)कारोबारी प्रतिष्‍ठान और संस्‍थाओं हेतु(निगमित या अनिगमित) : नए और पुराने वाहन

क)  भुगतान अवधि 3 साल तक - पिछले साल की बैलेंस शीट,लाभ-हानि खाते के अनुसार औसत वार्षिक नकदी स्त्रोतों जैसे पीएटी + मूल्‍यह्रास का दुगुना।

ख)  भुगतान अवधि 3 साल से अधिक 5 साल तक - पिछले साल की बैलेंस शीट,लाभ-हानि खाते के अनुसार औसत वार्षिक नकदी स्त्रोतों जैसे पीएटी + मूल्‍यह्रास का तीनगुना।

ग)  भुगतान अवधि 5 साल से अधिक 7 साल तक - पिछले साल की बैलेंस शीट,लाभ-हानि खाते के अनुसार औसत वार्षिक नकदी स्त्रोतों जैसे पीएटी + मूल्‍यह्रास का पॉंचगुना।

(तीन सालों की आयकर विवरणी भी प्राप्‍त की जायेगी।  
 

एकल इकाई को वित्त की राशि और वित्‍तपोषित वाहनों की संख्या की कोई अधिकतम सीमा नहीं है।

मार्जिन

i)नए वाहनों हेतु   - ऑन रोड मूल्‍य का 10% (इसमें सहायक उपकरण और बीमा शामिल नहीं है)

ii)पुराने वाहनों हेतु- 25%

ब्‍याज-दर

ब्‍याज-दर हेतु कृपया यहां क्लिक करें

प्रक्रिया शुल्‍क

(एक बार)

प्रोसेसिंग फीस के लिए यहां क्लिक करें 

दस्‍तावेजी प्रभार

केवल वास्तविक स्टाम्प/राजस्व व्यय

प्रतिभूति

वाहन का दृष्टिबंधक: आरसी/व्‍यापक बीमा पालिसी जिसमें बैंक का खंड शामिल हो।

ॠण का भुगतान

नए वाहनों हेतु   - अधिकतम 84 माह

पुराने वाहनों हेतु - अधिकतम 60 माह वाहन की उम्र के आधार पर(वाहन की उम्र सहित भुगतान की अवधि 84 माह से अधिक नहीं होनी चाहिए) 

 

भुगतान की आयु

पैंशनरहित वेतनभोगी वर्ग 60 वर्ष की आयु तक
पैंशनसहित वेतनभोगी वर्ग70 वर्ष की आयु तक
अन्य 70 वर्ष की आयु तक

पूर्वभुगतान

यदि उधारकर्ता स्‍वयं अपने वैध स्रोतों से ॠण का भुगतान करता है तो कोई पूर्वभुगतान प्रभार नहीं लगेगा। ॠण के टेकओवर के मामले में, पूर्वभुगतान करने पर बकाया ॠण राशि का @1% अतिरिक्‍त प्रभार लगेगा।

 

गारंटी

1. व्‍यक्तिगत/ स्वामित्व मामले:
क) यदि किश्‍त की कटौती वेतन/वेतन खाते से की जाती है: गारंटी की छूट होगी।
ख) अन्य मामलों में : पति-पत्‍नी/बड़े पुत्र/ तीसरे पक्ष की गारंटी प्राप्त की जायेगी।  

2. साझेदारी फर्म के मामलों में: कोई गारंटी नहीं ली जायेगी क्‍योंकि सभी भागीदारों के दस्तावेज निष्‍पादित होंगे और वे अकेले एवं संयुक्त रूप से उत्तरदायी होंगे।
3. संयुक्त स्टॉक कंपनियॉं/ट्रस्टों/संघों आदि: किसी भी निदेशक/ ट्रस्टी/सदस्य ( जिन्‍होंने दस्तावेज निष्पादित किये हैं,के अतिरिक्‍त अन्‍य) की व्यक्तिगत गारंटी।